IMPS kya hai RTGS aur NEFT me kya antar hai

IMPS kya hai RTGS aur NEFT me kya antar hai 2020

IMPS क्या है इसकी जिज्ञासा तब और बढ़ जाती है। जब हमें पैसे किसी बैंक एकाउंट में सेंड करने होते है। आज का समय डिजिटल हो चुका है। सभी विभाग ऑनलाइन होते जा रहे है। ऐसे बैंक बैंक विभाग कैसे अछूता रहेगा। imps का यूज बैंक में किया जाता है। जिसकी विस्तृत जानकारी आपको इस ब्लॉग पोस्ट में मिलने वाली है। अगर आप जानना चाहते है। तो इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें।
आज आप घर बैठे ही अपने सारे banking के काम कर सकते हैं. जैसे की fund transfer, demand draft, passbook printing इत्यादि. ठीक वैसे ही ऐसे बहुत से services हैं जिसका हम इस्तमाल करते हैं अपने सुविधा के लिए जैसे की RTGS, NEFT और IMPS. इस आर्टिकल में हम लोग ये भी जानेंगे। कि RTGS और NEFT क्या है। और दोनों में क्या अंतर है।
IMPS kya hai RTGS aur NEFT me kya antar hai
आपको बता दें। कि IMPS को सबसे पहले 2010 में लांच किया गया था अब इसे आये हुए लगभग 20 साल हो गए हैं. इसे NEFT और RTGS के बाद introduce किया गया है इसलिए ये लोगों के बीच ज्यादा फेमस हो चुका है. इस फीचर का यूज करके आप मिनटों में एक बैंक एकाउंट से दूसरे बैंक एकाउंट में पैसे भेज सकते है। जो फीचर इतना पावरफुल है। उसके बारे जानकारी होना जरूरी है।

IMPS means 

IMPS का अर्थ Immediate Payment Service है। यानि तत्काल भुगतान सेवा. IMPS एक ऐसी बैंकिंग Payment System सेवा है जिसके तहत आप Real time में पैसे को एक account से दुसरे account में फण्ड भेज सकते हैं. जहाँ NEFT और RTGS में पैसे भेजने में थोडा समय लगता है वहीँ IMPS के माध्यम से पैसे भेजने पर ये तत्काल ही successful हो जाता है, जिससे हमें और ज्यादा इंतजार करने की जरुरत नहीं होती है.
National Payments Corporation Of India ने सबसे पहले Immediate Payment Service (IMPS) की शुरुवात की थी. इस service के द्वारा आप चौबीस घंटे कभी भी मोबाइल फोन, इंटरनेट, एटीएम के माध्यम से किसी भी बैंक में Electronic fund transfer कर सकते हैं. इस service को सबसे पहले अगस्त 2010 में एक पायलट प्रॉजेक्ट के तौर पर शुरू किया गया था । जो बाद में 22 नवंबर 2010 को इसे एक full service के तौर पर लांच कर दिया गया।  हालांकि, शुरुवात में इसे केवल कुछ की बैंकों जैसे की SBI, ICICI, BOI ने ही लॉन्च किया था, लेकिन बाद में Axis बैंक और HDFC बैंक जैसे दुसरे private बैंकों ने भी यह सेवा शुरू कर दी. अब NPCI की website पर यह सर्विस मुहैया कराने वाले सभी बैंकों की पूरी लिस्ट आप देख पाएंगे।
IMPS से पैसे कैसे भेजे जाते है
वैसे देखा जाये तो ऐसे बहुत से तरीके हैं जिनके द्वारा आप IMPS में पैसों का transfer कर सकते हैं, जिसके बारे में हम विस्तृत जानकारी पढ़ेंगे।
IMPS करना Bank Account और IFSC code के द्वारा

IMPS द्वारा जब भी हम किसी व्यक्ति या संस्था के बैंक एकाउंट में पैसे भेजते है। तो हमे उनका बैंक एकाउंट और ifsc कोड की जरूरत पड़ती है। जबकि आप इस व्यक्ति का नाम भी लिख सकते है। जबकि एकाउंट नम्बर और IFSC कोड का होना जरूरी है। जिनकी हेल्प से आप मिनटों में अपने बैंक से उस व्यक्ति के बैंक एकाउंट में पैसे भेज सकते है।
IMPS से पैसे भेजने के लिए सबसे पहले अपने net banking account पर login करें.
उसके बाद आप जिसे beneficiary के हिसाब से Add करना चाहते हैं उनकी सभी details भरकर उन्हें नए beneficiary के हिसाब से add करें. Beneficiary कैसे add किया जाता है। जो भी जानकरी भरें उसे ठीक प्रकार से जांच कर लें।
एक बार आपने beneficiary को add कर लिए, फिर आप details को select कर सकते हैं और आप जितना amount ट्रांसफर करना चाहते हैं उसे टाइप कर सकते हैं.
इसके पश्चात आपको details verify करने की आवश्यकता पड़ेगी। सभी जानकारी को फिर एक बार देखें। किसी प्रकार की गलती न हो।
अंत में इसे confirm करें.
जैसे ही कॉन्फॉर्म पर क्लिक करेंगे। आपके एकाउंट से पैसा डेबिट हो जाएगा। और उस एकाउंट में क्रेडिट भी हो जाएगा। जिसमे कुछ सेकेंड का समय लगता है।
आपके मोबाइल पर एक SMS receive मिलेगा।  जहाँ पर आपके transaction की details रहेगी. इसे संभाल के रखें क्यूंकि अगर कोई भी परेशानी हो payment को लेकर तब आप bank से मिल सकते है।
IMPS करना Mobile Number और MMID के द्वारा
इसे समझने से पहले इसके शाब्दिक अर्थ को जानना जरूरी है। तो चलिए इसको भी जान लेते है।
MMID और IMPS को समझें

अगर आप IMPS का यूज करना चाहते हैं तब आपके पास एक bank account जो की mobile-banking services के लिए enrolled होना चाहिए जिस बैंक में आपने एकाउंट खुलवाया है। इसके लिए आपको अपना मोबाइल नम्बर अपने एकाउंट में रजिस्टर कराना होता है। जिसके लिए आपको ब्रांच में जाकर एक फॉर्म भरना पड़ेगा। जिसे kyc कहते है।
एक बार आपने अपने mobile number को bank branch में register कर लिया, तब वो आपको एक unique seven-digit MMID code दे देंगे।  जिसका यूज आप instant transfers IMPS के द्वारा कर सकते हैं. इस MMID code में first four digits होते हैं ये unique identification number उस bank के जो की आपको ये IMPS की सुविधा प्रदान कर रही है.
यदि आपके पास एक से अधिक bank accounts है, तो भी आपका bank आपके सभी bank account के लिए एक एक unique MMID number allocate करेंगे. चूँकि आपका MMID number एक कॉम्बिनेशन होता है यह account number और mobile phone number,को मिलाकर बनता है।  इसलिए आप आसानी से जान पाएंगे। कि कौन सा MMID किस बैंक का है।
Fund transfer ke liye MMID KA USE KAISE KARE
सबसे पहले अपने mobile banking app को Log in करें.
इसके बाद fund transfer section पर क्लिक करें।  और IMPS को select करें.
इसके बाद account number,mobile number और MMID code add करें अपने beneficiary के और अपने transfer को initiate करना जरूरी है।
आपको इस transaction को OTP और mPIN के द्वारा verify करना होता है।
आपके account से पैसे debit होकर receiver’s के account में तुरन्त क्रेडिट हो जाएंगे।
अब आपको एक sms मिलेगा। जिसमे सभी डिटेल होतो है।
IMPS करने के लिए एटीएम का प्रयोग
इसके लिए आपको beneficiary’s के डेबिट कार्ड नम्बर की जरुरत पड़ती है पैसे भेजने के लिए ATMs का यूज करें। लेकिन यहाँ इस method में आप कितने पैसे transfer कर सकते हैं per day और per month में इसकी एक limit होती है. यह कैसे करना है। यह जानते है।
अपने डेबिट कार्ड को swipe करना है और अपने एटीएम पिन को enter करें।
अब funds transfer option को select करें। और फिर IMPS के option को सेलेक्ट करें।
अब आपका मोबाइल नम्बर दिखाई देगा।
अपने beneficiary’s mobile और MMID number को टाइप करना होता है.
जितना पैसा भेजना चाहते है। उसे टाइप करके सेंड पर क्लिक करें।
कुछ ही सेकेंड में आपके बैंक एकाउंट से पैसे debit होकर receiver के account में credit हो जाएंगे।
जैसे ही पैसे transfer होंगे। वैसे ही आपको एक SMS प्राप्त होगा जहाँ आपके सारे transaction details देख पाएंगे।
SMS के द्वारा IMPS कैसे करें

यदि आपके पास internet connection नहीं है? फिर भी आप पैसे भेज पाएंगे. बिलकुल भी घबराइये नहीं क्यूंकि आप फिर भी IMPS service का यूज कर सकते हैं SMS के द्वारा. यहाँ पर भी आप SMS format के द्वारा beneficiary add कर सकते हैं. ये SMS format आप अपने bank के website से प्राप्त कर सकते हैं
IMPS <Beneficiary Mobile No><Beneficiary MMID><Amount><MPIN>
एक बार ये ख़त्म हो जाये फिर आप आसानी से पैसे भेज सकते हैं.
Features of IMPS 

IMPS के द्वारा पैसे भेजना बहुत ही safe और secure होता हैं
इसका यूज आप अपने मोबाइल से कर सकते है। यहां इंटरनेट की जरूरत नही है।
यह अब तक का सबसे फ़ास्ट सेवा है।
अगर रिसीवर के मोबाइल नम्बर है। तो आप पैसे आसानी से भेज सकते है।
यहाँ पर recipient के एकाउंट में जल्दी पैसे क्रेडिट हो जाते है।
पैसे भेजने के लिए किसी डिटेल की जरूरत नही है।
ये सेवा पुरे वर्ष में 24 घंटे उपलब्ध हैं.
इस सर्विस के लिए कोई एक्स्ट्रा चार्ज नही देना होता है।
पैसे ट्रांसफर हो जाने के बाद दोनों पार्टीज को sms मिल जाते है।
इस सेवा का उपयोग करके आप 50 हजार रुपये भेज सकते है।
इस सेवा का यूज करने के लिए आपके पास एटीएम कार्ड होना जरूरी हैं।
आपका मोबाइल नम्बर आपके बैंक से लिंक होना चाहिए। ताकि अलर्ट मिल सके।
अगर आपके पास बेसिक फ़ोन है। तब भी आप इसका यूज कर सकते है।
IMPS ke fayade

IMPS fund transfer service ने ऑनलाइन ट्रांसेक्शन की परिभाषा ही बदल दी है. ये आज अपने यूजर्स को बहुत सारे फायदे दे रहे है। अगर उनके users online/mobile banking services को activate किए हुए हैं तो इसके फायदे भी जान लें

 Instant Fund Transfer: इसके हेल्प से आप तुरन्त  fund transfer कर सकते हैं. इसके लिए आपके पास receiver का account number और mobile number चाहिए. ये सारे transactions कुछ ही सेकंड में हो जाते है।

 Easy Process: इस तरह का ट्रांसेक्शन बहुत ही फ़ास्ट होता है। इसके लिए बस आपको beneficiary के details को add करना होता है जैसे की हम NEFT/RTGS में करते हैं और active होने के लिए wait करते हैं. कुछ banks नए beneficiary को fund transfer करने के लिए ज्यादा से ज्यादा 30 मिनट का समय लगाते हैं. इसलिए आपको उनके नाम, अकाउंट नम्बर, IFSC or MMID (Mobile Money Identifier) Code,  account टाइप, जैसे details को प्रोवाइड कराना होता है।
Round The Clock: इस सेवा का उपयोग आप किसी भी दिन कर सकते है। इसमें कोई बाधा उतपन्न नही होती है।
Money Transfer Channels: IMPS में पैसे भेजने के लिए आप बहुत से method का प्रयोग कर सकते हैं जैसे की net banking, mobile banking, atm or SMS इत्यादि.
जहाँ पर इंटरनेट की सुविधा नहीं है वहां पर भी आप SMS के द्वारा IMPS में पैसे भेज सकते हैं
Open To All: इस service का यूज Resident या non-resident Indians (NRI) भी कर सकते हैं।
Security First: IMPS में money transfer करना बहुत ही सेफ होता है, इसमें banks बहुत बार check करने के बाद ही आपके transaction को valid करते हैं. लेकिन ध्यान रहें की अगर आपने कोई गलत beneficiary details दिया है। तब ये fault केवल आपकी ही होगी. फिर भी अगर आपने गलती से कोई गलत beneficiary account में पैसे भेज दिए हैं तब आप ऐसे में अपने Bank साखा से संपर्क कर सकते हैं तभी आपका फण्ड वापिस होगा।
IMPS सेवा प्रदाता बैंक की लिस्ट
1. Andhra Bank
2. Allahabad Bank
3. Adarsh Co-Operative Bank Ltd.
4. Axis Bank
5. Bandhan Bank Ltd.
6. Bank of India
7. Bank of Baroda
8. Bassein Catholic Co-op Bank
9. Bank of Maharashtra
10. Canara Bank
11. BNP Paribas
12. Central Bank of India
13. Catholic Syrian Bank
14. City Union Bank
15. Citibank
16. Cosmos Co-operative Bank
17. Corporation Bank
18. Development Bank of Singapore
19. Dena Bank
20. Dhanalakshmi Bank
21. Development Credit Bank
22. Federal Bank
23. Dombivli Nagarik Sahakari Bank
24. HSBC
25. HDFC Bank
26. IDBI Bank
27. ICICI Bank
28. Indian Overseas Bank
29. Indian Bank
30. ING Vysya Bank
31. IndusInd Bank
32. Janata Sahakari Bank, Pune
33. Jammu & Kashmir Bank
34. Karur Vysya Bank
35. Karnataka Bank
36. Kerala Gramin Bank
37. Lakshmi Vilas Bank
38. Kotak Mahindra Bank
39. Nainital Bank
40. Mehsana Urban Co-operative Bank
41. NKGSB Co-operative Bank
42. Pragathi Krishna Gramin Bank
43. Oriental Bank of Commerce
44. Punjab and Sind Bank
45. Punjab and Maharashtra Co-op Bank
46. Rajkot Nagrik Sahkari Bank Ltd
47. Punjab National Bank
48. Saraswat Bank
49. RBL Bank
50. Standard Chartered Bank
51. South Indian Bank
52. State Bank of Hyderabad
53. State Bank of Bikaner and Jaipur
54. State Bank of Mysore
55. State Bank of India
56. State Bank of Travancore
57. State Bank of Patiala
58. Syndicate Bank
59. Thane Janata Sahakari Bank
60. Tamilnad Mercantile Bank
61. The A.P Mahesh Urban Co-op Bank
62. UCO Bank
63. The Greater Bombay Co-op Bank
64. Union Bank of India
65. Vijaya Bank
66. United Bank of India
67. Yes Bank
NEFT और RTGS के बीच क्या अंतर है
भारत में डिजीटलीकरण के कारण online लेनदेनों की संख्या में बहुत बढ़ोत्तरी हुई है. इसी दिशा में सरकार ने भी यह नियम बना दिया है कि अब किसी भी बैंक के debit कार्ड से 2000 रुपये तक के स्वाइप/पॉइंट ऑफ़ सेल पर सरकार कोई भी टैक्स नहीं वसूलेगी। लेकिन लोग बहुत बड़ी संख्या में अपने सगे सम्बन्धियों को पैसे ट्रांसफर करते हैं जिसमें NEFT, IMPS जैसी सुविधाओं का उपयोग किया जाता है.
 भारत में इस समय कई भुगतान प्रणालियाँ चलन में हैं जिनमें मुख्य हैं:
1.  राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिक निधि अंतरण (National Electronic Funds Transfer -NEFT)
2.  तत्काल सकल निपटान (Real Time Gross Settlement- ‘RTGS’)
3.  तत्काल भुगतान सेवा (Immediate Payment Service-IMPS)
आइये अब इन तीनों के बारे में एक एक करके जानते हैं
1. नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर (NEFT) भारत के सबसे प्रमुख इलेक्ट्रॉनिक fund transfer प्रणालियों में से एक है। इसे नवंबर 2005 में शुरू किया गया था| NEFT एक व्यक्ति के खाते से दूसरे व्यक्ति के account में रूपये भेजने की सुविधा है| इसमें रुपया तुरंत ही लाभार्थी के account में जमा हस्तांतरित नही किया जा सकता है बल्कि इसको भेजने के लिए प्रति घंटा के हिसाब से टाइम स्लॉट बंटे होते हैं जिनमे ही इस माध्यम से रुपये transfer किए जा सकते हैं|
2. तत्काल सकल निपटान (Real Time Gross Settlement- ‘RTGS’): इस प्रणाली में कम से कम 2 लाख के ऊपर का पेमेंट (और अधिक कितना भी) ट्रान्सफर किया जाता है.भारतीय RTGS प्रणाली लगभग 16 दिन में देश की जीडीपी के बराबर का लेन-देन कर देती है। RTGS राष्ट्रीय भुगतान प्रणाली में माध्यम से देश के उच्च मूल्य लेनदेन वाले 95% भुगतान इसी भुगतान प्रणाली के माध्यम से किये जाते हैं |
यह भुगतान प्रणाली पूरे विश्व में सबसे ज्यादा प्रयोग की जाती है| 1985 में इसके माध्यम से केवल 3 देशों के केन्द्रीय बैंक भुगतान करते थे लेकिन इस समय विश्व के 100 से अधिक देशों के केन्द्रीय बैंक इसका इस्तेमाल कर रहे हैं| RTGS के माध्यम से रुपये का हस्तांतरण बिना किसी देरी के किया जाता है इसमें जैसे ही किसी ने ऑनलाइन पैसे भेजने के लिए ok का बटन दबाया, लाभार्थी के खाते में रुपये तुरंत पहुँच जाते हैं|
3. तत्काल भुगतान सेवा Immediate Payment Service (IMPS): इस service को सार्वजनिक रूप से 22 नवंबर, 2010 को शुरू किया गया था। इस सेवा के माध्यम से एक बैंक अकाउंट से दूसरे बैंक अकाउंट में रुपया कभी भी किसी भी समय भेजा जा सकता है| इस सेवा का लाभ मोबाइल फ़ोन के माध्यम से भी उठाया जा सकता है l NEFT और RTGS के विपरीत, इस सेवा का उपयोग बैंक की छुट्टियों के समय भी पूरे साल 24×7 किया जा सकता है। इस सेवा का प्रबंधन राष्ट्रीय भुगतान निगम (National Payments Corporation of India –NPCI) द्वारा किया जाता है 
नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर (NEFT) और तत्काल सकल निपटान (RTGS) के बीच में क्या अंतर है ?
इन दोनों भुगतान सेवाओं के बीच निम्न आधारों पर भेद किया जा सकता है :-
a. NEFT के माध्यम से फंड ट्रांसफर मुख्य रूप से छोटे बचत खाता धारक करते हैं जबकि RTGS का उपयोग बड़े बड़े उद्योग घराने, संस्थाएं इत्यादि करते हैं |
b. NEFT के माध्यम से भुगतान एक समय के बाद होता है लेकिन RTGS के माध्यम से भुगतान तुरंत उसी समय हो जाता है |
c. NEFT का उपयोग छोटी राशि को भेजने के लिए किया जाता है जबकि RTGS के माध्यम से कम से कम 2 लाख रुपये का ट्रांसफर करना जरूरी हिता है जबकि NEFT के मामले में ऐसी कोई न्यूनतम या अधिकत्तम की सीमा नही है |
d. NEFT के माध्यम से पैसे भेजने के लिए बैंकों में सोमवार से शुक्रवार तक सुबह के 9 बजे से शाम के 7 बजे तक का समय तय रहता है जबकि शनिवार के दिन सुबह के 9 बजे से दोपहर के 1 बजे तक पैसे भेजे जा सकते हैं | लेकिन RTGS प्रणाली से पैसे तुरंत (continuous basis पर ) भेज दिए जाते हैं (लेकिन उस दिन बैंक का खुला होना जरूरी होता है)
e. हस्तांतरण लेनदेन पर लगने वाला शुल्क
रिज़र्व बैंक अपने रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट सिस्टम (RTGS) और नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर (NEFT) के माध्यम से लेन-देन के लिए बैंकों से न्यूनतम शुल्क वसूलता था, और इसके बदले में बैंक यह शुल्क ग्राहकों से बसूलते थे.
लेकिन अब RBI ने NEFT और RTGS पर शुल्क लगाना बंद कर दिया है और बैंकों से कहा है कि वे भी ग्राहकों से शुल्क लेना बंद कर दें.
Conclusion- आज के इस आर्टिकल में आपने पढ़ा कि IMPS क्या होता है। और RTGS और NEFT क्या होता है। उम्मीद है कि आपको यह जानकारी अच्छी लगी होगी। इस जानकारी को अपने सभी सोशल मीडिया एकाउंट पर शेयर जरूर करें। आप अपने सवाल कॉमेंट बॉक्स में लिख  सकते है। 

ADD YOUR COMMENT

Your email address will not be published. Required fields are marked *